रूस करेगा भारत के अंतरिक्ष यात्रिओ की ट्रेनिंग में मदद | गगनयान मिशन 2022

नमस्कार दोस्तों, आपको जानकार ख़ुशी होगी की भारत अब अपने पहले मानव मिशन (गगनयान मिशन 2022) की तयारी में लगा हुआ है। अब तजा खबर यह है की भारत रूस के साथ अपने पहले मानव अंतरिक्ष मिशन को लेकर एक करार करने जा रहा है। भारत अपने अंतरिक्ष यात्रिओ को रूस में ट्रेनिंग के लिए भेजने को लेकर एक करार करने जा रहा है। भारत अपना पहला मानव अंतरिक्ष मिशन 2022 में करने जा रहा है। कुछ चुनिंदा जवानो को एयर फाॅर्स से सेलेक्ट किया जायेगा और मानव मिशन पर भेजा जायेगा।

भारत रूस के बिच अंतरिक्ष करार कब होगा?

दोस्तों इस समझौते पर दोनों देशो के बिच में 4 अक्टूबर को बात होगी। 4 अक्टूबर को रूस के राष्टपति व्लादिमीर पुतिन भारत आ रहे है। भारत रूस द्विपक्षीय वार्ता में इसरो के अंतरिक्ष यात्रिओ को रूस में ट्रेनिंग देने को लेकर बात होगी।

भारत कितने देशो में अपने अंतरिक्ष यात्रिओ की ट्रेनिंग करवा सकता है?

दोस्तों अभी इसरो ने कुछ देशो के नाम साझा किये है। भारत अपने अंतरिक्ष यात्रिओ की ट्रेनिंग जर्मनी, अमेरिका या फिर रूस में करवा सकता है। ये तीनो देशो के नाम इसरो चेयरमैन के. सिवान जी ने दिए है। आपको बतादे की यह मिशन 2022 तक पूरा होने की सम्भावना है। यह मिशन भारत को एशिया में स्पेस टेक्नोलॉजी के मामले में सबसे आगे लाकर खड़ा कर देगा।

आपको बतादे की इस मिशन को “गगनयान” के नाम से भी जाना जाता है। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा इस मिशन को लेकर घोषणा की गयी थी। प्रधानमंत्री मोदी जी ने 2022 तक भारत के द्वारा पहले “गगनयान” मिशन को पूरा करने का वादा किया था। इसके लिए इसरो को फण्ड भी दिया जा चूका है। आपको बतादे की इसरो ने अभी तक अंतरिक्ष यात्रिओ के लिए स्पेस सूट भी तैयार कर लिया है। हमे ये ही उम्मीद है की जल्द ही इसरो अपने गगनयान मिशन को सफलता पूर्वक पूरा करे।

Please follow and like us: