क्या भारत ईरान से तेल खरीदेगा? ईरान भारत के लिए महतवपूर्ण क्यों है?

क्या भारत ईरान से तेल खरीदेगा? ईरान भारत के लिए महतवपूर्ण क्यों है?

दोस्तों आप सभी को पता होगा की अमेरिकी राष्टपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ईरान पर प्रतिबन्ध लगा दिए है। अमेरिका दुनिया के सभी देशो पर ईरान से तेल इम्पोर्ट को बंद करवाने पर दबाव बना रहे है। यही दबाव अमेरिका भारत पर भी बना रहा है। हलाकि अभी तक भारत ने अपना रुक साफ़ नहीं किया है। पर मन जा रहा है की भारत को भी इन प्रतिबंधों को मानना पद सकता है। अब सवाल ये है की भारत को क्या ईरान से तेल इम्पोर्ट बंद कर देना चाहिए?

क्या होगा अगर भारत ईरान से तेल इम्पोर्ट बंद करदे तो?

दोस्तों अगर भारत ईरान से तेल इम्पोर्ट बंद करदे तो इसका सीधा असर भारत ईरान के द्विपक्षीय रिश्तो पर पड़ेगा। भारत ईरान से तेल इम्पोर्ट करने वाला तीसरा बड़ा देश है। भारत के तेल इम्पोर्ट बंद करने से इसका असर ईरान के आर्थिक हालत पर पड़ेगा। अमेरिकी प्रतिबंधों को झेलता ईरान भारत के इस फैसले से और मुश्किल में पद सकता है। इसीलिए ईरान भारत से यह उम्मीद लगाए हुए है की भारत तेल इम्पोर्ट करना बंद न करे। ऐसे में देखना होगा की क्या भारत ईरान से तेल इम्पोर्ट बंद कर सकता है या नहीं।

भारत ईरान के रिश्तो में किन बातो को लेकर मतभेद है?

दोस्तों आपको पता होगा की भारत की कंपनी ने ईरान में गैस फील्ड ढूंढा था। यह गैस फील्ड भारत को मिलना चाहिए था परन्तु ईरान ने 2017 में यह गैस फील्ड रूस की कंपनी गाजप्रोम को दे दिया था। ये सही मायने में एक धोका था क्यूंकि गैस फील्ड की खोज का सारा खर्चा भारत की कंपनी ने वहन किया था परन्तु रूस को इसका सारा लाभ मिला। ईरान के इसी फैसले से नाराज़ होकर भारत ने 2017 में अमेरिका से पहली बार तेल इम्पोर्ट किया था। भारत द्वारा अमेरिका से तेल इम्पोर्ट करना ईरान को सबक सीखने के लिए काफी था।

भारत ईरान दोस्ती आज के दौर में कैसी है?

दोस्तों भले ही ईरान भारत के बिच गैस फील्ड को लेकर रिश्तो में थोड़ी खटास आयी हो। लेकिन भारत ईरान के संबंद पिछले 10 सालो में काफी बेहतर हुए है। ईरान पाकिस्तान का पडोसी मुल्क है लेकिन ईरान के भारत से सम्बन्ध अधिक घनिष्ट है। पाकिस्तान ने भारत अफगानिस्तान व्यापार को नुकसान पहुँचाने के इरादे से भारत अफगानिस्तान सड़क रास्ता बंद करवा दिया था। इसके बाद ही भारत एक ऐसे रूट की तलाश में था जहाँ से भारत अफगानिस्तान तक अपना सामान निर्यात कर सके। इसका हल ईरान की बन्दरगार चाहबार के रूप में मिला। ईरान की चाहबार बंदरगाह को भारत को देने पर ईरान ने सहमति भी जाता दी। आज ईरान की बंदरगाह चाह्बर पर भारत का नियंत्रण है। यह बंदरगाह भारत ईरान के घनिष्ट सम्बन्धो को दिखाता है।

ऐसे अब देखना होगा की भारत ईरान से दोस्ती कैसे निभाता है बिना अमेरिका को नाराज किये। अगर भारत प्रतिबंधों को मानता है तो इसका प्रभाव न सिर्फ ईरान पर पड़ेगा बल्कि भारत को भी आर्थिक तोर पर नुकसान हो सकता है। ईरान दूसरे देशो के मुकाबले भारत को तेल सस्ते में देता रहा है साथ ही साथ ईरान एक लौता देश है जो भारतीय रूपये में तेल देता है। भारतीय रूपये में तेल खरीदने से हमारी करेंसी मजबूत होती है। इसीलिए ईरान से तेल खरीदने पर भारत फायदे में रहता है।

Please follow and like us: